सोमवार, 16 सितंबर 2013

Chirjajwalya

      चिरजाज्वल्य

दुर्ग-  
प्रायः ध्वस्त मिलते हैं,
समय की मार से शिकस्त मिलते हैं;
उनकी उन्नत-भाल प्राचीरों
ध्वस्त भवनों, परास्त परकोटों
को देखकर उनकी भव्यता, प्राचीनता
और आज मानव की
उनके प्रति तटस्थता
का अनुमान तो लग जाता है,
पर उनके द्वारा जिये उल्लास, वीरता, एवं त्याग
उनके द्वारा सहे घृणित षड़यंत्रों के घाव एवं अवसाद
की अनुभूति नहीं होती है.
अवस्था, आकार अथवा शृंगार से उनके गुरुत्व
अथवा लघुत्व की प्रतीति नहीं होती हैं.


पर्यटक-
प्रायः दुर्ग का क्षत-विक्षत
अथवा सुगढ़, स्वस्थ शरीर देखकर,
गाइडके मुख से
उसके स्थापत्य का सत्य-असत्य वर्णन सुनकर
समझने लगते हैं कि
वे दुर्ग को जानते हैं;
उसकी सुंदर, सामान्य,
अथवा कुरूप छवि को पहिचानते हैं.
परंतु प्रत्येक दुर्ग की एक आत्मा होती है,
वह क्या थी, कैसी थी?
यह कम ही जानते हैं.


मैं-
राजपूताना के दुर्ग देखने
रेलगाड़ी से गया था;
अरावली पर्वत श्रंखला की
लगभग हर चोटी पर कोई दुर्ग
अथवा कोई मंदिर देखकर
अचरज से भरा था.
उनमें से मंदिर तो अधिकांश रंगे-पुते थे
किसी किसी के शिर पर
पताका भी लहराती थी
परंतु अधिकतर दुर्ग लुटे पिटे थे
उनके बिन मुंह खोले ही
पराभव की गूंज आती थी.


फिर-
देखे जयपुर, जोधपुर, जैसलमेर के
महल और हवामहल,
जिनमें कुछ बना दिये गये हैं
आज पंचसितारा होटल.
उनकी भव्यता में प्रायः छिपी दिखी
उनके राजाओं के स्वार्थ एवं
पारस्परिक वैमनस्य की गंध.
हाँ, आज हो चुके ध्वस्त
पर खड़े गर्वोन्नत
चित्तौड़गढ़ से होकर
आने वाली वायु में अवश्य मिली
त्याग एवं वीरता की सुगंध.

चित्तौड़-
दुर्ग के कण-कण में
एक आभा चमकती थी
राणा प्रताप के शौर्य की दामिनी
आज भी दमकती थी.
भामाशाह के त्याग में भरी थी
राष्ट्रप्रेम की गाथा,
मीरा की भक्ति में निखरी थी
आत्मिक प्रेम की अभिलाषा.
पन्ना धाय के बलिदान से
स्वामिभक्ति की गंगा बहती थी,
राणियों के जौहर में
स्वप्रतिष्ठा की
चिरजाज्वल्य लौ जलती थी.


6 टिप्‍पणियां:

  1. आप की ये सुंदर रचना आने वाले सौमवार यानी 23/12/2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है... आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है...
    सूचनार्थ।


    एक मंच[mailing list] के बारे में---

    अपनी किसी भी ईमेल द्वारा ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजकर जुड़ जाईये आप हिंदी प्रेमियों के एकमंच से।हमारी मातृभाषा सरल , सरस ,प्रभावपूर्ण , प्रखर और लोकप्रिय है पर विडंबना तो देखिये अपनों की उपेक्षा का दंश झेल रही है। ये गंभीर प्रश्न और चिंता का विषय है अतः गहन चिंतन की आवश्यकता है। इसके लिए एक मन, एक भाव और एक मंच हो, जहाँ गोष्ठिया , वार्तालाप और सार्थक विचार विमर्श से निश्चित रूप से सकारात्मक समाधान निकलेगे इसी उदेश्य की पूर्ति के लिये मैंने एकमंच नाम से ये mailing list का आरंभ किया है। आज हिंदी को इंटरनेट पर बढावा देने के लिये एक संयुक्त प्रयास की जरूरत है, सभी मिलकर हिंदी को साथ ले जायेंगे इस विचार से हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित ये संयुक्त मंच है। देश का हित हिंदी के उत्थान से जुड़ा है , यह एक शाश्वत सत्य है इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है। हिंदी के चहुमुखी विकास में इस मंच का निर्माण हिंदी रूपी पौधा को उर्वरक भूमि , समुचित खाद , पानी और प्रकाश देने जैसा कार्य है . और ये मंच सकारात्मक विचारो को एक सुनहरा अवसर और जागरूकता प्रदान करेगा। एक स्वस्थ सोच को एक उचित पृष्ठभूमि मिलेगी। सही दिशा निर्देश से रूप – रेखा तैयार होगी और इन सब से निकलकर आएगी हिंदी को अपनाने की अद्भ्य चाहत हिंदी को उच्च शिक्षा का माध्यम बनाना, तकनिकी क्षेत्र, विज्ञानं आदि क्षेत्रो में विस्तार देना हम भारतीयों का कर्तव्य बनता है क्योंकि हिंदी स्वंय ही बहुत वैज्ञानिक भाषा है हिंदी को उसका उचित स्थान, मान संमान और उपयोगिता से अवगत हम मिल बैठ कर ही कर सकते है इसके लिए इस प्रकार के मंच का होना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। हमारी एकजुटता हिंदी को फिर से अपने स्वर्ण युग में ले जायेगी। वर्तमान में किया गया प्रयास , संघर्ष , भविष्य में प्रकाश के आगमन का संकेत दे देता है। इस मंच के निर्माण व विकास से ही वो मुहीम निकल कर आयेगी जो हिंदी से जुडी सारे पूर्वग्रहों का अंत करेगी। मानसिक दासता से मुक्त करेगी और यह सिलसिला निरंतर चलता रहे, मार्ग प्रशस्त करता रहे ताकि हिंदी का स्वाभिमान अक्षुण रहे।
    अभी तो इस मंच का अंकुर ही फुटा है, हमारा आप सब का प्रयास, प्रचार, हिंदी से स्नेह, हमारी शक्ति तथा आत्मविश्वास ही इसेमजबूति प्रदान करेगा।
    ज आवश्यक्ता है कि सब से पहले हम इस मंच का प्रचार व परसार करें। अधिक से अधिक हिंदी प्रेमियों को इस मंच से जोड़ें। सभी सोशल वैबसाइट पर इस मंच का परचार करें। तभी ये संपूर्ण मंच बन सकेगा। ये केवल 1 या 2 के प्रयास से संभव नहीं है, अपितु इस के लिये हम सब को कुछ न कुछ योगदान अवश्य करना होगा।
    तभी संभव है कि हम अपनी पावन भाषा को विश्व भाषा बना सकेंगे।


    एक मंच हम सब हिंदी प्रेमियों, रचनाकारों, पाठकों तथा हिंदी में रूचि रखने वालों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त कर पाएंगे कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    आप यहां क्लिक करें
    या  
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।
    इस समूह में पोस्ट करने के लिए,
    ekmanch@googlegroups.com
    को ईमेल भेजें
    [आप सब से भी मेरा निवेदन है कि आप भी इस मंच की सदस्यता लेकर इस मंच को अपना स्नेह दें तथा इस जानकारी को अपनी सोशल वैबसाइट द्वारा प्रत्येक हिंदी प्रेमी तक पहुंचाएं। तभी ये संपूर्ण मंच बन सकेगा

    उत्तर देंहटाएं
  2. राजस्थान के शासकों की संकुचित मानसिकता और उनके पारस्परिक वैमनस्य पर आपने उचित प्रहार किया है. चित्तोड़ का गौरव अट्ठारहवीं शताब्दी तक आते-आते ऐसा लुप्त हुआ कि मराठों के चित्तोड़ पर आक्रमणों का मुकाबला करने की उसमें सामर्थ्य ही नहीं रह गयी. सुन्दर भावाभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  3. राजस्थान के शासकों की संकुचित मानसिकता और उनके पारस्परिक वैमनस्य पर आपने उचित प्रहार किया है. चित्तोड़ का गौरव अट्ठारहवीं शताब्दी तक आते-आते ऐसा लुप्त हुआ कि मराठों के चित्तोड़ पर आक्रमणों का मुकाबला करने की उसमें सामर्थ्य ही नहीं रह गयी. सुन्दर भावाभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं